Electric Current किसे कहते है? | Direction of Electric Current in Hindi | सूत्र | मापने का यंत्र

Electric Current किसे कहते है?

इस टॉपिक में हम आपको Electric Current के बारे में पूरी जानकारी देंगे | इस में हम Electric Current किसे कहते है | सूत्र | मापने का यंत्र के टॉपिक्स कवर करेंगे और पिछले टॉपिक में हमने सीखा की Electricity क्या होती है? आइये हम हमारे Main टॉपिक पे आते है |

Electric Current की सिंपल डेफिनिशन है की Flowing of Electric Charge इसका  मतलब कि Electric Current इलेक्ट्रॉन और प्रोटोन का प्रवाह है, Electric Current और इलेक्ट्रॉन विपरीत दिशा में प्रवाह करते हैं। Electric Current का फ्लो पॉजिटिव से नेगेटिव की तरफ जाता है और इलेक्ट्रॉन का फ्लो  नेगेटिव से होकर पॉजिटिव की तरफ जाता है। इसीलिए मेने कहा Flowing of Electric Charge इसे ही विद्युत धारा यानी Electric current कहते है |
Electric Current किसे कहते है  Direction of Electric Current in Hindi  सूत्र  मापने का यंत्र
Electric Circuit


इसे भी जरूर पड़े:- Electricity in Hindi | Electricity क्या है | कितने प्रकार की होती है?


Direction of Electric Current in Hindi 


अब हम देखेंगे की Electric Current की Direction कैसी होती है | Conventional Current की  Direction Positive टर्मिनल से Negative टर्मिनल होती है | और इलेक्ट्रान की डायरेक्शन Negative  टर्मिनल से Positive टर्मिनल होती है | यह दोनों एक दूसरे के अपोजिट होते है | जैसे की आप ऊपर या फिर नीचे के सर्किट में देख सकते हो की सर्किट में Positive टर्मिनल से होकर Negative टर्मिनल की तरफ करंट फ्लो कर रहा है परन्तु अंदर का जो फिनामिना है, वह ऐसा की Negative टर्मिनल से Positive टर्मिनल  की तरफ इलेक्ट्रान मूव करते है | आउटर करंट की डायरेक्शन है ( Positive to Negative ) और इनर करंट की डायरेक्शन है ( Negative to Positive
Electric Current किसे कहते है  Direction of Electric Current in Hindi  सूत्र  मापने का यंत्र
Direction of Conventional Current

Electric Current का सूत्र

Q = I x t

जहां,
            I = Current
           Q=विद्युत आवेश
            t = समय

एक कूलम्ब में कितने इलेक्ट्रान होते है आइये देखते निचे दिए गए Numerical से,

Electric Current किसे कहते है  Direction of Electric Current in Hindi  सूत्र  मापने का यंत्र
1 Electron

Electric Current मापने का यंत्र

किसी भी सर्किट में करंट को मापने के लिए हम एम्पीयर मीटर या एमीटर का उपयोग करते है । करंट को मापने के लिए हमें एम्पीयर (Ammeter) मीटर को सर्किट में सीरीज में कनेक्ट करना होता है | ऐसा इसीलिए किया जाता है क्योंकी सीरीज में रेजिस्टेंस की वैल्यू बहुत ही कम होती है | अमीटर को हम जब सीरीज में लगाते है तो वह एक तरह से सर्किट का ही पार्ट बन जाता है जैसे की आप नीचे सर्किट डायग्राम में देख सकते हो | इसीलिए Ammeter का रेजिस्टेंस बहुत ही लौ रखना होता है क्युकी सर्किट में कोई चेंज (Disturbance) नहीं होना चाहिए | अगर ऐसा होगा तो सर्किट को आउट में करंट काम मिलने लगेगा | इसीलिए Ammeter में रेजिस्टेंस की वैल्यू बहुत ही कम रखी जाती है | इस वजह से हम सब अमीटर से करंट आसानी से और एक्यूरेट Measure कर सकते है |  एम्पीयर मीटर या एमीटर को कई इंडस्ट्रियल या फिर किसी दुकानों पर कई जगह पर देखा होगा | एम्पीयर को A से डिनोट करते हे |

करंट को हम काम और ज्यादा दोनों पैमाने में use करते है | जैसे की किसी भी इंडस्ट्रियल एरिया में ज्यादा पैमाने में करंट यूज़ होता है और किसी छोटे इलेक्ट्रॉनिक सर्किट्स में करंट को कम पैमाने में यूज़ किया जाता है जैसे की Miliampere और Microampere | इन दोनों के रिलेशन निचे दिए गए है |

1)  1mA = 10-3 A
2)  1µA = 10-6 A

इलेक्ट्रॉन यानी Electric Current जहा भी आसानी से आगे फ्लो हो जाए है उसे कंडक्टर (Conductor) कहते है | जैसे की गोल्ड, सिल्वर, कॉपर, ताम्बा इत्यादि | कॉपर सबसे महंगा होता है | इसीलिए सबसे ज्यादा ताम्बा को use किया ज्यादा है |

और जहा से भी इलेक्ट्रॉन यानी Electric Current आसानी फ्लो नहीं हो पाता है उसे इन्सुलेटर (Insulator) कहते है । जैसे की लकड़ी, प्लास्टिक 





इस पोस्ट में हमने आपको Electric Current किसे कहते है | Direction of Electric Current in Hindi से संबंधित पूरी जानकारी देने की कोशिश की है | अगर इसके बारे में आप कुछ और जानना चाहते हैं या इसके बारे में कुछ बताना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके जरूर बताएं और अगर आपको यह जानकारी फायदेमंद लगे तो अपने सोशल मीडिया पे दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें. 
Thank You


No comments:

Post a Comment

आपको कोई Question या फिर कोई Information देनी हो तो आप हमें comment कीजिए |