Electricity in Hindi | Electricity क्या है | कितने प्रकार की होती है?

Electricity in Hindi

आज हम Electricity in hindi के बारे में जानेंगे, Electricity क्या होती है? हमारे अपने दैनिक जीवन में Electricity का उपयोग बहुत ही जरूरी हो गया है, जैसे की लाइट, कूलर, टी.वी, फ्रिज, पंखा इन सभी वस्तुओ को चलाने के लिए हमें Electricity की जरूरत होती है |



Electricity क्या है?

हज़ारों साल पहले यूनान देश के एक थेल्स नामक वैक्ज्ञानिक को पता लगा की, किसी दो कपड़ो को रगड़ने से एक अलग ही तरह का आकर्षण उत्पन्न होता है | यहाँ से Electricity की कहानी शुरू हुई, परन्तु Electricity को Define करने में हजारो साल लग गए | जब भी किसी दो वस्तुओ को रगड़ने से उनमे दो तरह के गुण उत्पन्न होते है | एक होता है आकर्षण, दूसरा होता है प्रतिकर्षण और सिर्फ यह गुण धनात्मक और ऋणात्मक Charges के कारण होता है इन कारणों के वजह से Electricity पैदा होती है, इसे ही हम Electricity कहते है |

अब आप यह पूछोगे की Charges क्या होते है, Charges को जानने से पहले आपको Matter को जानना होगा | Matter एक कोई भी को वस्तु बोल सकते हो जैसे की टेबल, खुर्ची या कोई और चीज Matter होता है | और अब Matter को छोटे-छोटे टुकड़ो में कर दिया जाए तो वो हो जाता हे Atom | Atom छोटे छोटे कणो से बना होता है | Atom के सेण्टर पॉइंट को Nucleus कहा जाता है | अब Nucleus के अंदर जाए तो उसमे न्यूट्रॉन और प्रोटोन होते है|  न्यूट्रॉन में कोई भीं चार्जेज नहीं होता है इसीलिए उसे न्यूट्रल कहते है | और एक होता है  इलेक्ट्रान जो की वह Nucleus के चारो और एक ऑर्बिट में घूमते रहता है |
Electricity in Hindi | Electricity क्या है | कितने प्रकार की होती है?
Atom
Matter एक तरह से बैलेंस्ड होता है यानी उसमे इलेक्ट्रान और प्रोटोन इक्वल होते है | अगर उस Matter को किसी वजह से Unbalanced क्रिएट किया जाए, तो वह बॉडी Unbalanced हो जाएगी | जैसे की जिस भी बॉडी में इलेक्ट्रान की संख्याए ज्यादा हो जाये तो वो बॉडी Negative चार्ज के तरह Behave करेगी और अगर पॉजिटिव चार्ज किसी बॉडी में ज्यादा होये तो वो बॉडी पॉजिटिव चार्जेज के तरह Behave करेगी | इसे हम Examples से  जानते है, जब किसी कंघा को बालो में घिसते हो तो उस कंघे में नेगेटिव चार्ज क्रिएट हो जाता है और उसे छोटे छोटे कागज के टुकड़ो यानी पॉजिटिव Charge के पास ले जाने पर वह एक-दुसरो को आकर्षित करते है | यह सब Unbalancing के कारन होता है | क्युकी कंघा पहले Balanced था परन्तु घिसने के बाद उसमें Negative चार्ज क्रिएट हो गए और वह Unbalanced हो गया | जैसे की आप निचे Image में देख रहे हो |
Electricity in Hindi | Electricity क्या है | कितने प्रकार की होती है?

दूसरा Example देखते है, जब बलून को किसी दिवार में घिसते हे तो उसमे Charged क्रिएट हो जाते है फिर उसे कही पर भी पर चिपकाने की कोशिश करोगे तो वह चिपक जायेगा | क्योंकी जब बैलून पहले बैलेंस था और उसको घिसने के बाद उसमे चार्ज क्रिएट हो गए और उसके वह बलून Unblancing हो गया | दोनों प्रकिया में चार्ज एक ही स्थान पर थे इसे ही Static Electricity या फिर Electricity कहते है |

Electricity in Hindi | Electricity क्या है | कितने प्रकार की होती है?


Electricity के प्रकार
Electricity के दो प्रकार होते हे,

1) स्थिर विद्युत  ( Static Electricity)
2) गतिशील  विद्युत् ( Dynamic Electricity)

1)  स्थिर विद्युत  ( Static Electricity)

Static Electricity जिस जगह पर उत्पन्न होती है उसी जगह पर रहती है इसलिए इसे Static Electricity कहते हैं | जैसे की कोई दो कपड़ो को रगड़ने से होती है |  इसमें उत्पन्न हुई Electricity को कोई भी रास्ता ना मिलने से इसे Static Electricity कहते है |

2) गतिशील  विद्युत् ( Dynamic Electricity)

Dynamic Electricity
को एक स्थान से दूसरे स्थान तक कंडक्टर्स के सहायता से आसानी से ले जाया सकता है, इसे Dynamic Electricity कहते है | जैसे की आपके घरो में देखा ही होगा लाइट, कूलर, टी.वी, फ्रिज, पंखा,......इत्यादि | यह सभी Dynamic Electricity के कुछ Examples है | गतिशील  विद्युत् ( Dynamic Electricity) के भी दो प्रकार होते हैं।

1) प्रत्यावर्ती धारा (Alternating Current)
2) एकदिश धारा (Direct Current)







इस पोस्ट में हमने आपको Electricity in Hindi | Electricity क्या है | कितने प्रकार की होती है? से संबंधित पूरी जानकारी देने की कोशिश की है | अगर इसके बारे में आप कुछ और जानना चाहते हैं या इसके बारे में कुछ बताना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके जरूर बताएं और अगर आपको यह जानकारी फायदेमंद लगे तो अपने सोशल मीडिया पे दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें. 
Thank You


1 comment:

आपको कोई Question या फिर कोई Information देनी हो तो आप हमें comment कीजिए |